सोचतीं हूँ - Factsnfigs

AMAZON


सोचतीं हूँ


सोचतीं हूँ
बहुत सोचतीं हूँ


अब नहीं सोचतीं
क्यों सोचती रहूँ


जो मेरे बारे मे नहीं सोचता
क्या मैं पागल हूँ कि
बस तुम्हें ही सोचती रहूँ


कितने मुद्दे हैं सोचने के लिए
देश
समाज
विज्ञान
मनोविज्ञान
अर्थशास्त्र
धर्म
दर्शन
प्राकृतिक
चिकित्सा


इतने विषय है
तुम्हें न सोचने के लिए


जब देश के लिए सोचती हूँ
तो सोचती हूँ कि तुम्हारे जैसे कर्मठ
देश का हर नागरिक हो
तो भारत सर्वश्रेष्ठ होगा विश्व में


जब समाज के लिए सोचती हूँ
तो सोचती हूँ कि तुम्हारे जैसे आदर्शवादी पुरूष हो
तो समाज की समस्त विकृतियां स्वतः ही समाप्त हो जाएं


जब सोचती हूँ विज्ञान के लिए
तुम सूर्य समान लगते हो
जो अपनी स्वर्णिम रश्मि से कण कण मे
ऊर्जा और जान भर दें


जब सोचती हूँ अर्थशास्त्र पर
क्या लाभप्रद है कि मैं अपना समय यूँ व्यर्थ करूँ
पर तुम भी तो अपना मूल्यवान समय
यूं ही मुझ पागल पर व्यर्थ करते हो


जब सोचती हूँ प्राकृतिक के बारे में
तब तुम्हारे मूड की तरह मौसम बदलते रहते हैं
साथ साथ मेरा भी


जब मैं सोचती हूँ मनोविज्ञान पर
तब समझ आता है कि जब एक औरत आदमी से
सच्चा प्रेम करती हैं तो
सारे रिश्ते सारी दुनिया बस वहीं हो जाता है


जब सोचती हूँ धर्म के बारे में
तुम मुझे अपने पुण्यों के प्रतिफल दिखते हो


अब तुम हीं बताओं

मैं सोच सोच कर भी बस तुम्हें ही सोच पाती हूँ
चाहे रास्ते हो कोई मंजिल तुम तक पहुंच जाती हैं


मेरी हर सोच ग्रहों की तरह
मेरे सूर्य की परिक्रमा करती हैं
मेरे पल पल के साथी



Source: अर्पणा संत सिंह Facebook Post
Theme images by linearcurves. Powered by Blogger.